my android app Subscribe Your Email To Get Free All Latest Updates...
  All FlashCard Images Are In High-Resolution, Please wait For Some Seconds To Open While You Click On Image. 
Home / Curious Science / Secrets of Biological Clock or Body Clock or Circadian Rhythms

Secrets of Biological Clock or Body Clock or Circadian Rhythms

Biological Clock or Body Clock or Circadian Rhythms

Secrets of Biological clock or Body clock or Circadian Rhythms

 

  • About Biological Clock

    You must have heard the name of the wall clock or wristwatch which is also a part of your daily life.

    But Do you know that there is a clock in our body which we call the Biological clock or Circadian Rhythms? When we make a habit of doing a work on fix time, then this biological clock also starts working accordingly.

    Suppose you wake up at 5 am every day, then your biological clock will wake you up at 5 am daily, for which you will not need any alarm as well. If you have lunch at 12 o’clock every day, then you will start feeling hungry at 12 o’clock, Because your biological clock has set you according to your daily routine. as you change your routine, the biological clock also sets itself according to your routine.

    The biological clock controls the timing of the body of humans, plants and all animals. You must have noticed that many times we start getting sleepy during the day and sometimes we sleep late at night then our digestive system gets spoiled. Do you know why this happens?

    Circadian Rhythms

     

    Science on Biological Clock

    The research was going on this for many years. Eventually 3 American scientists Jeffrey C Hall, Michael Rosbash and Michael W Young solved this mystery, for which these scientists were also awarded the Nobel Prize in 2017. In this research, it has been told that how humans and animals adapt themselves according to the internal clock and to the rotation of the Earth.

    There is a small group of Biological clock cells in which some Clock Genes (an important gene regulating circadian rhythms) are found which completely follow the time. These cells are active at different times and guide the parts of our body such as when to sleep, when to wake up, when to eat. Apart from the biological clock of the whole body, different organs also have different biological clocks and according to 24 hours, this biological clock determines different functions.

    But what if your biological clock goes wrong?

    What problems can occur when the biological clock deteriorates?

    The biological clock controls our daily functions if it worsens even a little bit, then your body will not function properly. Its effects start appearing in the body. Due to its deterioration, diseases such as Headaches, Body aches, Fever, Weakness, Dizziness, Diabetes, Low BP, High BP, Colds, Indigestion, Ulcers and Depression can occur.

    To avoid this, you must sleep on time, get up on time, and eat on time and those who work in Night Shift should take Healthy food along with Power Nap.

     

    Does everyone’s biological clock have the same?

    No, everyone’s biological clock is slightly different. Someone’s biological clock is completed in 22 hours and someone’s completed in 25 hours, But the average biological clock is 24 hours.

    The internal biological clock affects biological functions such as Hormone levels, Sleep, Body temperature, and Metabolism. This is the reason that when we change the Time Zone, our Internal clock and external environment are not able to match immediately.

    Today we are going to tell you such Ideal body routine based on the biological clock which you will never get any disease after following. You will always lead a healthy life. This routine has been going on since ancient times, which even today scientists of Ayurveda recommend to follow this Routine.

     

    Body Routine Based on The Biological Clock or Circadian Rhythms

     

    3 AM to 5 AM in the Morning:

    It is the time of Brahma muhurta. At this time, the vital-power (Prana) is exclusively in the Lungs. Therefore, lungs are most active at this time. At this time, taking a little lukewarm water and Roaming in the open air and doing Pranayama is very beneficial for the lungs.

    At this time, doing long-term Shavasana (Savasana / Corpse pose / Mrtasana / death pose) develops a lot of lung function. The body gets healthy and energized by getting a lot of Pure air (oxygen) and Negative ions (N. ions are beneficial for the human body). The people who get up in the Brahma Muhurta are Intelligent and Enthusiastic, and the life of those who fall asleep becomes languid (vigourless).

    At 4:30 am to 5 am, Body temperature is lowest. At this time there is a lot of chance of getting cold, so keep the AC (Air Conditioner) set to close for this time.

    Brahma muhurta

     

    5 AM to 7 AM in the Morning:

    At this time, vital-power (vitality) is especially in the Large intestines. Therefore, the large intestine is active at this time. Excretion and Bathing should be done between morning awakening to 7 am. Their intestine dries the faeces by exploiting the castaway fluid of the faeces. This causes arise Constipation and many other diseases.

    At 6 am, The secretion of Cortisol Hormone is the highest in our body. The reason for this is that at this time the body is getting ready to wake up. At this time, it is better to do Yoga than jogging or heavy exercise.

    large intestines

     

    7 AM to 9 AM in the Morning:

    At this time, vital-power (vitality) is especially in the Stomach. This time is suitable for Food, because Digestive juice is produced more at this time. When you eat, drink lukewarm water (as per compatibility) between the meals.

    At 7 am, your body’s Blood pressure changes rapidly. This is the reason that accidents like Stroke or Heart-Attack occur more in the morning. The BP patient should not do any kind of BP enhancing activity at this time.

    stomach

     

    9 AM to 11 AM in the Morning:

    At 9 am, Testosterone starts forming more in your body. your body is most ready for any Athletic activity at this time. If you want, you can go to the Gym and do a High-level workout. This is the most favorable time to work out.

    At 10 am, the body is most Alert. This is the reason that usually the work-time of Offices is of the 10 am.

    Testosterone secretion

     

    At 11 AM to 1 PM in the Morning:

    At this time, vital-power (vitality) or energy flow is especially in the Heart. In Indian culture, there is a practice of doing midday-evening (Rest) around 12 noon to develop and nurture the heart’s sensations like Compassion, Kindness, Love etc. Therefore, eating food is prohibited at this time. At this time, you can take liquids like drink whey (Buttermilk / Mattha / chhaachh) and Eat curd (yogurt).

    Heart energy

     

    At 1 PM to 3 PM in the Afternoon:

    At this time, vital-power (vitality) is in the Small Intestine. Therefore, the small intestine is particularly active at this time. Its function is to absorb nutrients from the diet and push waste materials to the large intestine. Instead of drinking more or less water after a meal, should drink as much Water as you are thirsty, so that the large intestine can be helped to push the waste. At this time, eating or sleeping inhibits the exploitation of nutritious food and juices and the body becomes Sick and Weak.

    At this time, the body is in the state of Excellent Coordination and Fastest Reaction, it would be better to reduce physical activity at this time.

    small intestine

     

    At 3 PM to 5 PM in the Afternoon:

    At this time, vital-power (vitality) is especially occurring in the Urinary Bladder. At this time there is a special activity in the bladder, due to which there is a tendency to pass Urine during this time.

    Urinary bladder

     

    At 5 PM to 7 PM in the Evening:

    At this time vital-power (vitality) is especially in the Kidneys. Light meal should be taken at this time. Eating 40 minutes before sunset in the evening is best. Do not eat 10 minutes before sunset to 10 minutes after sunset. In the evening, Milk can be drunk three hours after the meal. Eating food at late night brings lethargy (laziness).

    5 pm is the best time in terms of Muscle strength and Cardiovascular activities. Exercise at this time if you want to build muscle and Lose weight.

    At 6:30 pm, Blood pressure is highest in the body. BP or heart patients should be cautious at this time.

    kidneys cardiovascular and muscle

     

    At 7 PM to 9 PM in the Night:

    At this time, Vital-power (vitality) is especially in the Brain. At this time the brain remains particularly active. Therefore, in addition to the morning, the text Read (Study) in this period can be remembered quickly. This has also been confirmed by modern exploration.

    At 7 Pm, the body temperature is highest. So keep yourself cool then it will be better and at this time you should avoid any Debate or discussion.

    Drink milk with at night provides good rest as it induces sleep.

    Brain

     

    At 9 PM to 11 PM in the Night:

    At this time, vita-power (vitality) occur especially in the Spinal cord. At this time, resting by the Backside or on the Left side, helps the spinal cord to gain the strength. Sleep at this time provides the most relaxation. The awakening of this time exhausts the body and intellect. If food is taken at this time, it remains in the stomach till morning, and it is not digested even harmful substances are produced by its rot, which causes disease by going into the intestines with acid. So eating at this time is dangerous.

    At 9 pm, Melatonin hormones begin to form, which naturally cause sleep in the body. This is a great time to go to bed.

    Spinal cord biological clock

     

    At 11 PM to 1 AM in the Night:

    At this time, vital-power (vitality) is particularly active in the Gall bladder. Bile storage is the main function of the gall bladder. Awakening of this time causing insomnia, headache etc. bile disorders and ophthalmology and brings old age quickly. At this time, new cells are formed, that is, after 12 o’clock in the night, new cells are produced in exchange for the damaged cells of the body by the food taken in the day. Therefore, the awakening of this time brings Old age quickly.

    Gall bladder

     

    At 1 AM to 3 AM in the Night:

    At this time, vital-power (vitality) is especially in the Liver. Micro-digestion of food is the function of the liver. Awakening of this time spoils the liver and digestive system. At this time the body needs deep sleep and if you keep awake at this time, the body starts to subjugate of sleep, the vision is slow and the body’s reactions are slow. Therefore, road accidents are more at this time.

    At this time the liver destroys the Toxins (poisons) that made in your body throughout the day. As Late as you sleep, the less time you have with your liver to eliminate toxins from your body. Because of which the liver will not be able to completely destroy the toxins from your body. And if you keep sleeping late in the same way, then these toxins will accumulate (collect) in your body, and you know very well what the result will be.

    At 2 Am, the body is in the deepest sleep. At this time, you should avoid waking the body from sleep or any kind of activity. But keep in mind that it is not necessary that everyone’s biological clock remains the same. In such a situation, according to the physical Rhythm for which work for which time is beneficial, you have to pay attention.

    Liver biological clock

     

    The time stated in this is an Ideal situation. It is possible that due to any compulsion, your clock cannot match this ideal clock. But try to keep your biological clock according to this ideal clock.

    Read —–>  How Long You Can Survive Without Sleep

     

    Points To Remember

    Take special care of the following things as well:

    (1) Rishis and Ayurvedacharyas have said that Eating food without feeling hungry is forbidden. So the quantity of food in the morning and evening Keep as so that the time of meal mentioned above will be openly hungry.

    (2) Sit and eat food in Sukhasana (easy pose / simple cross-legged sitting asana) by Laying something on the ground. In this posture, the Gastritis (Strong Digestive Fire) is illuminated due to activation of Muladhara Chakra (the Root chakra). Eating food while sitting on a chair weakens the digestive power, and eating food on standing does completely spoiled it. Hence Buffet dinner should be avoided.

    (3) By eating something again and again between morning and evening meals increases the risk of Obesity, Diabetes, Heart disease, Mental stress and Depression.

    (4) Must Pray before eating, this makes food “Prasad”.

    (5) Do not drink water immediately after the meal, otherwise the gastrointestinal condition goes down and digestion does not occur properly. So drink water after one and a half hours.

    (6) Never drink cold water from the fridge.

    (7) Always drink water while sitting and sip by sip turns in the mouth. By this, large amount of saliva goes into the stomach, which relieves problems like Pain, Dizziness, morning headache etc… by balancing with stomach acid.

    (8) Sitting in Vajrasana (Thunderbolt Pose / kneeling asana) for 10 minutes after a meal, it digests food quickly.

    (9) Must be brushed your teeth 2 times a day, once in the morning and before go to bed at night.

    (10) To take advantage of the Earth’s magnetic field, sleep with your head to the East or south direction; otherwise, there are problems occur like Insomnia.

    (11) Sleep at night by turn off the lights to keep running the body’s biological clock properly. Research conducted in this context are shocking. According to Dr. Aziz, a professor at North Carolina University, by working or studying late at night and sleeping with the lights on, the biological clock becomes inactive, causing serious health-related problems. Sleeping in the dark makes this biological clock work correctly.

    The reason for most of the diseases found today is the chaotic (disorderly) routine and opposite diet. If we keep our daily routine in accordance with the biological clock of the body, then we will get an unintended benefit of the activation of different parts of the body. In this way, little awareness will lead us to a healthy life.

  • जैविक घडी

    आपने दीवार घड़ी या कलाई घड़ी का नाम तो सुना ही होगा जो आपके दैनिक जीवन का हिस्सा भी है।

    पर क्या आप जानते हैं कि हमारे शरीर में भी एक घड़ी होती है जिसे हम जैविक घडी (biological clock or Circadian Rhythms) कहते हैं? जब हम एक काम को नीयत समय पर करने की आदत डाल देते हैं तो ये जैविक घड़ी भी उसी के मुताबिक काम करने लगती है।

    मान लीजिए की आप रोज सुबह 5 बजे जाग जाते हैं तो आपकी जैविक घड़ी आपको रोजाना 5 बजे जगा देगी जिसके लिए आपको किसी alaram की भी जरूरत नहीं होगी। यदि आप रोज 12 बजे लंच करते हैं तो आपको 12 बजे ही भूख लगने लगती है। क्योंकि आपकी जैविक घड़ी आपकी रोजाना की दिनचर्या के हिसाब से आपको सेट कर चुकी होती है। जैसे जैसे आप अपनी दिनचर्या में change लाते हैं वैसे वैसे जैविक घडी भी आपकी दिनचर्या के हिसाब से अपने आपको सेट कर लेती है।

    जैविक घड़ी इंसानो, पेड़ पौधों और सभी जानवरों के शरीर के समय की दिनचर्या को नियंत्रित करती है। आपने notice किया होगा कि हमको कई बार दिन के समय नींद आने लगती है और कभी रात को हम देर से सोते हैं तो हमारा पाचन तंत्र खराब हो जाता है। क्या आप जानते हैं कि ऐसा क्यों होता है ?

    biological clock

     

    जैविक घड़ी पर विज्ञान

    इस पर कई वर्षों से Research चल रही थी। आखिरकार 3 अमेरिकी वैज्ञानिकों Jeffrey C Hall, Michael Rosbash and Michael W Young ने इस Mystery को सुलझाया जिसके लिए इन वैज्ञानिकों को 2017 में नोबल प्राइज से भी सम्मानित किया गया। इस रिसर्च में ये बताया गया है की इंसान और जानवर कैसे आंतरिक घड़ी के अनुरूप और धरती की परिक्रमा के अनुसार खुद को ढाल लेते हैं।

    जैविक घड़ी कोशिकाओं (Cells) का एक छोटा समूह होता है जिनमे Clock Genes पाए जाते हैं जो पूरी तरह से समय का पालन करते हैं। ये कोशिकाएं अलग अलग समय पर Active होती हैं और हमारे शरीर के Parts को निर्देशित करती हैं जैसे कब सोना है कब उठना है कब खाना है। पूरे शरीर की जैविक घड़ी के अलावा अलग अलग अंगो की भी अलग अलग जैविक घडी होती है। और 24 hours के हिसाब से ये जैविक घड़ी अलग अलग काम निर्धारित करती है।

    पर क्या हो अगर आपकी जैविक घड़ी बिगड़ जाये ? जैविक घड़ी के बिगड़ने पर क्या क्या परेशानियां हो सकती हैं ?

    जैविक घड़ी हमारी दैनिक किरियाओं को control करती है अगर यह थोड़ी सी भी बिगड़ जाए तो आपका शरीर सही तरीके से काम नहीं करेगा। इसके effect  शरीर में दिखने लगते हैं। इसके खराब होने से सिर दर्द, बदन दर्द, बुखार, कमजोरी, चक्कर आना, डॉयबटीज होना, Low BP, High BP, जुकाम, अपच, अल्सर और Depression जैसी बीमारियां हो सकती हैं।

    इससे बचने के लिए आपको समय पर सोना, समय पर उठना, और समय पर खाना चाहिए और जो लोग Night Shift में काम करते हैं उनको Power Nap के साथ साथ Healthy food लेना चाहिए।

     

    क्या सबकी जैविक घड़ी एक जैसी होती है ?

    नहीं सबकी जैविक घड़ी थोड़ी अलग अलग होती है। किसी की जैविक घड़ी 22 घंटो में ही पूरी हो जाती है और किसी की 25 घंटो में पूरी होती है पर औसतन जैविक घड़ी 24 घंटों की होती है।

    इंटरनल जैविक घड़ी हॉर्मोन्स लेवल्स, नींद, शरीर के तापमान और मेटाबॉलिज्म जैसे जैविक कार्यों को प्रभावित करती है। यही वजह है कि जब हम Time Zone बदलते हैं तो तत्काल हमारी इंटरनल घड़ी और बाहरी वातावरण तालमेल नहीं बैठा पाते।

    आज हम आपको जैविक घड़ी पर आधारित शरीर की ऐसी आदर्श दिनचर्या बताने जा रहे हैं जिसका पालन करने पर आपको कभी कोई बीमारी नहीं होगी। आप हमेशा निरोगी वाला जीवन व्यतीत करेंगे। यह दिनचर्या प्राचीन कल के समय से चली आ रही है जिसे आज भी आयुर्वेदा के वैज्ञानिक इस दिनचर्या को पालन करने की सलाह देते हैं।

     

    जैविक घड़ी पर आधारित शरीर की दिनचर्या

     

    प्रातः 3 से 5: 

    यह ब्रम्हमुहूर्त का समय होता है। इस समय जीवनशक्ति (प्राण) विशेष रूप से फेफड़ों मे होती है। इसलिए इस समय फेफड़े सर्वाधिक क्रियाशील रहते है। इस समय थोड़ा गुनगुना पानी पीकर खुली हवा मे घुमना एवं प्राणायाम करना फेफड़ों के लिए बहुत लाभदायक है।

    इस समय दीर्घ शवासन करने से फेफड़ों की कार्य  क्षमता खूब विकसित होती है।  उन्हें शुद्ध वायु (ऑक्सीजन) और ऋण आयन (Negative Ion) विपुल मात्रा में मिलने से शरीर स्वस्थ्य व स्फूर्तिमान होता है।  ब्रह्म मुहूर्त में उठने वाले लोग बुद्धिमानउत्साही होते है, और सोते रहने वालो का जीवन निस्तेज हो जाता है।

    प्रातः 4:30 से 5 बजे शरीर का तापमान सबसे कम होता है। इस समय ठण्ड लगने के काफी Chance होते हैं इसलिए AC (Air Conditioner) को इस समय बंद करने के लिए सेट करके रखे।

    Brahma muhurta

     

    प्रातः 5 से 7:

    इस समय जीवनशक्ति विशेष रूप से बड़ी आंतों में होती है। इसलिए इस समय बड़ी आँत क्रियाशील होती है। प्रातः जागरण से लेकर सुबह 7 बजे के बीच मल-त्याग एवं स्नान कर लेना चाहिए। सुबह 7 के बाद जो मल-त्याग करते है उनकी आंते मल में से त्याज्य द्रवांश (जिस द्रव को त्याग देना उचित हो) का शोषण कर मल को सूखा देती है।  इससे कब्ज तथा कई अन्य रोग उत्पन्न होते है।

    प्रातः 6 बजे हमारे शरीर का तनाव बढ़ाने वाले Cortisol Hormone का स्त्राव सबसे ज्यादा होता है। इसका कारण यह है की इस समय शरीर जागने के लिए तयार हो रहा होता है। ऐसे में इस वक्त जॉगिंग या भारी Exercise की बजाय योग करना बेहतर होता है।

    large intestines

     

    प्रातः 7 से 9:

    इस समय जीवनशक्ति विशेष रूप से आमाशय में होती है। यह समय भोजन के लिए उपयुक्त है। इस समय पाचकरस अधिक बनता हैं। जब आप भोजन करें तो भोजन के बीच -बीच में गुनगुना पानी (अनुकूलता अनुसार) घूँट-घूँट पिये।

    प्रातः 7 बजे आपके शरीर का Blood Pressure तेजी से बदलता है। यही कारण है कि Stroke या Heart-attack जैसे हादसे सुबह ज्यादा होते हैं। BP के मरीज को किसी भी तरह की BP बढ़ाने वाली Activity इस वक्त नहीं करनी चाहिए।

    stomach biological clock

     

    प्रातः 9 से 11:

    प्रातः 8 बजे आपके शरीर में Testosterone ज्यादा बनने लगता है। इस समय आपका शरीर किसी भी athletic activity के लिए सबसे ज्यादा तयार होता है। आप चाहें तो Gym जाकर High Level का Workout कर सकते हैं यह workout करने का सबसे अनुकूल समय होता है।

    प्रातः 10 बजे शरीर सबसे ज्यादा फुरतीला (Alert) होता है। यही वजह है की अमूमन Offices में काम की शुरुआत इस समय रखी जाती है।

    Testosterone secretion

     

    प्रातः 11 से 1:

    इस समय जीवन शक्ति या उर्जा-प्रवाह विशेष रूप से हिर्दय में होता है। करुणा, दया, प्रेम आदि ह्रदय की संवेदनाओ को विकसित एवं पोषित करने के लिए दोपहर 12 बजे के आस-पास मध्यान्ह-संध्या (आराम) करने का विधान हमारी संस्कृति में है। इसलिए इस समय भोजन करना वर्जित है। इस समय तरल पदार्थ ले सकते है जैसे मट्ठा / छाछ पी सकते है दही खा सकते है।

    Heart biological clock

     

    दोपहर 1 से 3:

    इस समय जीवन शक्ति छोटी आंत मे होती है। इसलिए इस समय छोटी आँत विशेष रूप से सक्रिय रहती है। इसका कार्य आहार से मिले पोषक तत्वों का अवशोषण व व्यर्थ पदार्थो को बडी आंत की ओर धकेलना है। भोजन के बाद ज्यादा या कम पानी पीने की बजाए प्यास-अनुरूप पानी पीना चाहिए, जिससे त्याज्य पदार्थो को आगे बढ़ाने में बड़ी आँत को सहायता मिल सके। इस समय भोजन करने अथवा सोने से पोषक आहार-रस के शोषण में अवरोध उत्पन्न होता है व् शरीर रोगी तथा दुर्बल हो जाता है।

    इस समय शरीर बेहतरीन Coordination और Reaction करने के हालत में होता है बेहतर होगा की इस वक्त आप Physical activity कम करें।

    small intestine

     

    दोपहर 3 से 5:

    इस समय जीवन शक्ति विशेष रूप से मूत्राशय में होती है। इस समय मूत्राशय में विशेष सक्रियता होती है जिसके फलस्वरूप 2-4 घंटे पहले पिये पानी से इस समय मूत्र-त्याग की प्रवृति होती है।

    Urinary bladder biological clock

     

    शाम 5 से 7:

    इस समय जीवन शक्ति विशेष रूप से गुर्दों में होती है। इस समय हल्का भोजन कर लेना चाहिए। शाम को सूर्यास्त से 40 मिनट पहले भोजन कर लेना उत्तम रहता है। सूर्यास्त के 10 मिनट पहले से 10 मिनट बाद तक (संध्याकाल) भोजन न करे। शाम को भोजन के तीन घंटे बाद दूध पी सकते है।  देर रात को किया गया भोजन सुस्ती लाता है यह अनुभवगम्य है।

    शाम 5 बजे muscle strength और Cardiovascular activities के लिहाज से सबसे अच्छा समय होता है। अगर muscle बनाना है और वजन घटाना है तो इस वक्त Exercise करें।

    शाम 6:30 बजे शरीर में Blood pressure सबसे ज्यादा होता है। इस समय BP या दिल के मरीजों को सतर्क रहना चाहिए।

    kidneys cardiovascular and muscle

     

    शाम 7 से 9:

    इस समय जीवन शक्ति विशेष रूप से मस्तिष्क में होती है। इस समय मस्तिष्क विशेष रूप से सक्रीय रहता है अतः प्रातः काल के अलावा इस काल में पढा हुआ पाठ जल्दी याद रह जाता है। आधुनिक अन्वेषण से भी इस की पुष्टी हुई है।

    शाम 7 बजे शरीर का तापमान सबसे ज्यादा होता है। इसलिए खुद को कूल रखें तो बेहतर होगा और किसी भी Debate या बहसबाजी से आपको बचना चाहिए।

    रात को दूध पीने से आराम मिलता है क्योंकि यह नींद को प्रेरित करता है।

    Brain

     

    रात्री 9 से 11:

    इस समय जीवन शक्ति विशेष रूप से रीढ़ की हड्ड़ी में स्थित मेरूरज्जु (spinal cord) में होती है। इस समय पीठ के बल या बायी करवट लेकर विश्राम करने से मेरूरज्जु को प्राप्त शक्ति को ग्रहण करने में मदद मिलती है इस समय की नींद सर्वाधिक विश्रांति प्रदान करती है। इस समय का जागरण शरीर व बुद्धि को थका देता है। यदि इस समय भोजन किया जाये तो वह सुबह तक जठर (Stomach) मे पड़ा रहता है , पचता नहीं और उस के सड़ने से हानिकारक द्रव्य पैदा होते हैं जो अम्ल (एसिड) के साथ आंतों में जाने से रोग उत्पन्न करते है। इसलिए इस समय भोजन करना खतरनाक है।

    रात्रि 9 बजे शरीर में कुदरती रूप से नींद लाने वाले Melatonin hormone बनना शुरू हो जाते हैं। बेड पैर जाने का यह बेहतरीन वक़्त है।

    Spinal cord biological clock

     

    रात्री 11 से 1:

    इस समय जीवन शक्ति विशेष रूप से पित्ताशय (Gall bladder) में सक्रिय होती है। पित्त का संग्रहण पित्ताशय का मुख्य कार्य है | इस समय का जागरण पित्त को प्रकुपित कर अनिद्रा, सिरदर्द आदि पित्त-विकार तथा नेत्र्रोगों को उत्पन्न करता है व बुढ़ापा जल्दी लाता है। इस समय नई कौशिकाएं (Cells) बनती है अर्थात रात्रि को १२ बजने के बाद दिन में किये गये भोजन द्वारा शरीर के क्षतिग्रस्त कोशी के बदले में नये कोशों का निर्माण होता है | इसलिए इस समय के जागरण से बुढ़ापा जल्दी आता है |

    Gall bladder

     

    रात्री 1 से 3:

    इस समय जीवन शक्ति विशेष रूप से लीवर में होती है। अन्न का सूक्ष्म पाचन करना यह यकृत का कार्य है। इस समय का जागरण यकृत (लीवर) व पाचन -तंत्र को बिगाड़ देता है। इस समय शरीर को गहरी नींद की जरूरत होती है और यदि इस समय जागते रहे तो शरीर नींद के वशीभूत होने लगता है, दृष्टि मंद होती है और शरीर की प्रतिक्रियाएं मंद होती है। अतः इस समय सड़क दुर्घटनाएं अधिक होती है।`

    इस समय लीवर आपके शरीर में दिन भर में बने विष (Toxins) को नष्ट करता है। आप जितनी देर से सोएंगे, आपके लीवर के पास उतना ही कम समय बचेगा आपके शरीर से Toxins को खतम करने के लिए। जिस वजह से लीवर आपके शरीर से Toxins को पूरी तरह से नष्ट नहीं कर पायेगा। और अगर आप लगातार इसी तरह से देर से सोते रहे तो ये Toxins आपके शरीर में जमा होते जायेंगे, और इसका परिणाम क्या होगा ये आप अच्छे से जानते हैं।

    रात्रि 2 बजे शरीर सबसे गहरी नींद में होता है। इस वक्त शरीर को सोते से जगाने या किसी भी तरह की Activity से आपको बचना चाहिए। पर ध्यान रखिए कि यह जरूरी नहीं है कि सबकी जैविक घड़ी एक जैसी ही चले। ऐसे में शारीरिक Rhythm के हिसाब से कोनसा वक्त किस काम के लिए लाभकारी है यह आपको ध्यान देना होगा।

    Liver biological clock

     

    इसमें बताया गया समय एक आदर्श स्थिति है। हो सकता है किसी भी तरह की मजबूरी की वजह से आपकी घड़ी इस आदर्श घडी से न मिल सके। लेकिन कोशिश करें कि आप अपनी जैविक घड़ी इस घडी के हिसाब से ही रखें।

    इसे भी पढ़ें —–>  How Long You Can Survive Without Sleep

     

    निम्न बातों का भी विशेष ध्यान रखें :

    (1) ऋषियोंआयुर्वेदाचार्यो ने बिना भूख लगे भोजन करना वर्जित बताया है। अतः प्रातः एवं शाम के भोजन की मात्रा ऐसी रखे, जिससे उपर बताए भोजन के समय में खुलकर भूख लगे।

    (2) जमीन पे कुछ बिछाकर सुखासन में बैठकर ही भोजन करें। इस आसन में मूलाधार चक्र सक्रिय होने से जठराग्नि (Strong Digestive Fire) प्रदीप्त रहती है। कुर्सी पर बैठकर भोजन करने से पाचन शक्ति कमजोर तथा खड़े हो कर भोजन करने से तो बिल्कुल नहींवत हो जाती है। इसलिए बुफे डिनर से बचना चाहिए।

    (3) सुबह व शाम के भोजन के बीच बार-बार कुछ खाते रहने से मोटापा, मधुमेह,ह्रदयरोग जैसी बिमारियों और मानसिक तनावअवसाद (mental stress & depression) आदि का खतरा बढ़ता है |

    (4) भोजन करने से पूर्व प्रार्थना करें, इससे भोजन प्रसाद बन जाता है |

    (5) भोजन के तुरंत बाद पानी न पिये, अन्यथा जठराग्नि मंद पद जाती है और पाचन ठीक से नहीं हो पाता | अत: डेढ़-दो घंटे बाद ही पानी पिये |

    (6) फ्रिज का ठंडा पानी कभी न पिये |

    (7) पानी हमेशा बैठकर तथा घूँट-घूँट करके मुँह में घुमा-घुमा के पिये | इससे अधिक मात्रा में लार पेट में जाती है, जो पेट के अम्ल के साथ संतुलन बनाकर दर्द, चक्कर आना, सुबह का सिरदर्द आदि तकलीफें दूर करती है |

    (8) भोजन के बाद 10 मिनट वज्रासन में बैठे, इससे भोजन जल्दी पचता है |

    (9) दिन में २ बार मंजन जरूर करें, एक बार सुबह और एक बार रात को सोने से पहले |

    (10) पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र का लाभ लेने हेतु सिर पूर्व या दक्षिण दिशा में करके ही सोये; अन्यथा अनिद्रा जैसी तकलीफें होती है |

    (11)  शरीर की जैविक घड़ी को ठीक ढंग से चलाने हेतु रात्री को बत्ती बंद करके सोये | इस संदर्भ में हुये शोध चौकानेवाले है | नॉर्थ कैरोलिना युनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉ. अजीज के अनुसार देर रात तक कार्य या अध्ययन करने से और बत्ती चालू रख के सोने से जैविक घड़ी निष्क्रिय होकर भयंकर स्वास्थ्य-सबंधी हानियाँ होती है | अँधेरे में सोने से यह जैविक घड़ी सही ढंग से चलती है |

    आजकल पाये जानेवाले अधिकांश रोगों का कारण अस्त-व्यस्त दिनचर्या व विपरीत आहार ही है | हम अपनी दिनचर्या शरीर की जैविक घड़ी के अनुरूप बनाये रखें तो शरीर के विभिन्न अंगो की सक्रियता का हमे अनायास ही लाभ मिलेगा | इस प्रकार थोड़ी-सी सजगता हमें स्वस्थ जीवन की प्राप्ति करा देगी |

Reference

Vaid Raj Aacharya (Scientist)

Human Body Research

More Curious Science Post

About Newton

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top
Translate »
error: