my android app Subscribe Your Email To Get Free All Latest Updates...
  All FlashCard Images Are In High-Resolution, Please wait For Some Seconds To Open While You Click On Image. 
Home / Curious Science / Secrets of Eating Drinking & Sleeping

Secrets of Eating Drinking & Sleeping

Secrets Of Eating Drinking Sleeping

eating drinking sleeping

Secrets of Eating Drinking Sleeping

  • EATING

    Pure Food (Restrained food)

    There are many reasons to formation of the Natural Nature, Position and Emotion of a human being. Diet is one of the main reasons among them. There is a saying that ‘As you eat food, the mind becomes that’. Therefore, as the diet is Sattvic (Virtuous), the human’s nature becomes more sattvic.

    On experiencing this, you will find that consuming vengeful substance (Meat and Alcohol) etc. increases stomach irritation, disease, sleepiness, laziness, anger etc. Due to which human tendency becomes Cruel, Violent, and Hard-hearted.

    If the diet will be Sattvic then peace in the inner body, lightness in body, freshness and wisdom will be pure. Due to which the tendency of man becomes Kind, Sensitive, and Soft-hearted.

    It is said that every piece of food should be chewed 30 to 32 times. that is, the food should be eaten like water. with Healthy mind, happily sitting in “Sukhasana (simple cross-legged sitting pose)” and facing to the east and eating food, the digestion keeps process right.

    Why not be a human being of any varna, ashram and community, if he is engaged in the path of God, if he does spiritual practice, then he will naturally be interested in sattvic food and not in Rajas-Tamas diet. Sattvic diet brings happiness in the mind and the body remains healthy.

     

    yuktāhāra-vihārasya yukta-ceṣṭasya karmasu

    yukta-svapnāvabodhasya yogo bhavati duḥkha-hā ।।17।।

     

    He who is regulated in his habits of Eating, Sleeping, Recreation and work can mitigate all material pains by practicing the yoga system. That is, proper diet-eating (living), proper karma behaviour and sleeping at the right time and getting up early in the morning, this yoga is going to remove sorrow. The lyricist has taught the formula of overall health protection and given the art of living in one verse.

    3 gunas sattva rajas tamas

     

    There are two types of Diseases in the body.
    (1) from destiny
    (2) By misery i.e. from the wrong eating food.

    In Hinduism, there is a belief of past-birth, you will see that two children are born at the same time, One of them born in Rich family, where his upbringing is comfortably (Luxuries). and the other child born in very poor family, where his upbringing is painful, while both the children have not done any good or bad deeds as soon as they are born. This is the result of his earlier deeds, due to which he has been born into a rich and poor family according to his earlier deeds.

    (1) The disease that occurs in the body as a result of old sins, does not disappear even after the use of medicines, etc., which becomes incurable, such disease does not get away from medicines but from the good deeds, service and blessings of saints, powerful rituals of mantras, and by the grace of God.

    (2) The disease caused by wrong eating and drinking is cured by taking the right Medicine, Avoiding and Fasting.

     

    How To Be Healthy?

    Having Knowledge about food is not a small thing, because food is the foundation of our life, if we do not have knowledge of the foundation, then how will the rest of our life prosper. With nutritious food, our body produces power by developing energy, with that power our body remains strong.

    Men living in rural areas do farming and other labour work, while women run mill in the house and do other household chores such as Brooming, Mopping, Cooking and doing small and big things of the house, in addition to this the pure environment of Village i.e. pure air, the clean water of rivers, grains etc… are found, due to these things and physical exertion, they get diseases in very small amounts.

    Physical exertion is negligible in Cities, and due to lack of clean air & water, and mental stress, their body becomes home of diseases at an early age. Therefore, if you want our body & mind to be healthy, first keep your food and drink clean and Restrained.

    For good Health and good Digestion, drink water one hour before or after the meal. the order of eating should be – 1. Salad 2. Chapati 3. Rice 4. Confection (sweet stuff) and finally fruit should be eaten.

    eating in cross legged sitting

     

    (1) Hitabhuk (2) Mitabhuk (3) Ritabhuk – That is, (1) We should eat that food whatever good for our body, (2) Eat less of hunger and (3) Eat according to the season. Eating less with hunger and eating according to the season is beneficial for health.

    Apart from this, the indigestion food that remains in our body, to digest it, we should fast for at least one day in a week by fasting or fasting with fruit, Due to which our body is healthy and the soul is pure. It brings good health and long life with knowledge power, thought power, wisdom, devotion, meritorious devotion and balanced diet – it is always indisputable.

    DRINKING

    How To Drink Water

    In this age of today, where our countrymen are going to dissolve poison in their body by using high-power medicine pills for the smallest amount of trouble, our Sages and Saint have devised ways to keep the body healthy by adopting the right food and drink through their experience. It has been told how to consume water after dietary purification.

    Scholars say that “As you drink water, the speech will be like that”. Always drink clean, fresh, lukewarm or potty (large earthen jar) water. Refrigerator or ice-cold water should not be drunk.

    Water should always be drunk while sitting and sip, drinking water while standing causes pain in the knees (Arthritis). Water should be drunk by the right hand in any metal glass instead of plastic.

    drinking water

     

    Use of Water As A Medicine

    Get up before sunrise in the morning and drink about 1.25 litres (four glasses) of night water without wash your face and brushing. Immediately after that do not eat or drink for about 45 minutes. You can wash your face after drinking water. As long as this experiment goes on, drink water only after 2 hours of having breakfast and food in those days. Consuming water in the morning is beneficial in many diseases.

    If people of ill and fragile nature cannot drink four glasses of water simultaneously, then first they start with one or two glasses and then gradually increase to four glasses. In this way, drink about 10-12 glasses of water throughout the day.

    Patients suffering from Arthritis and joint pain should use this thrice a day for a week. Drinking four glasses of water together does not affect health at all. Yes, urine will come again and again in the first two to four days but will be as before later.

     

    Water Refuse To Drink

    One should not drink water immediately after a hot meal, after fruits like cucumber, watermelon, melon etc., immediately after waking up in the afternoon, immediately after physical exertion and travelling, and immediately after night sexual action (sexual intercourse).

    Like air and sun rays, pure water is also a life element. Three-fourths of our body is water, which is necessary in Digestion, Blood circulation and Expulsion. Water removes the heat inside the body. Like medicine, the use of water to remove human disease is a Panacea (Raam Baan).

    According to Hinduism, If the Ganges water is kept from the holy place of pilgrimage in Vaisakh (April-May) or Kartik month (Oct-Nov), filled within the soil, glass, stone or sugar pot, then many diseases are destroyed due to consumption of Ganga water, devotion and power is generated in human.

    SLEEPING

    Sleep (sleeping system)

    Sleep is very important to stay healthy. For deep and good sleep, if possible, sleep under the open sky and in the open air. Sleeping in the open air causes deep sleep. Sleeping under the tree in the summer season brings pink and sweet sleep. Upon waking up from such extreme or deep sleep, the mind and heart get pleasure. If the weather is cold or the dew is falling more, then no one should sleep in the open.

    The sleeping room should not be full of Insects, mosquitoes and foul-smelling, tight, stuff. Should not sleep with head towards North. Sleep head towards north is also considered a bad sign.

    It is good to sleep towards the East and South. It is said that learning power and vital-power (vitality) increase by sleeping with head towards the East.  sleeping with head towards the South increases digestive power and lifespan. A pillow should be kept under the head at bedtime. some people need a lot of pillows, this is not right.

    By the way, a healthy person in a normal state does not need to raise his head with a pillow. There is no need a pillow to the person who sleeping upright, But that person should use pillow to prevent the neck from crooked, who is sleeping left and right side. Should not use of big and high pillows while sleeping, Because One has difficulty to sleep. Secondly, due to no relaxation to nerves of the neck causes damage to them. Thirdly, blood circulation is obstructed.

    sleeping direction in east & south

     

    When the emphasis of sleep comes then it should not be stopped. One who does not sleep as much as he needs to sleep, then due to lack of sleep or stopping the sleep emphasis, it starts experiencing pain, lethargy, cerebral diseases, headache, dizziness, heaviness, yawning etc. Reduced body immunity, arousal in the eyes, and Impaired the Digestive power due to which Indigestion, Anorexia etc. are produced.

    People who do not sleep on time and wake up all night long, they live as patient and weakly. Deep sleep is very important for staying healthy. washing hands and feet at night before sleeping helps to sleep well. Watching T.V, using Mobile or Reading while sleeping is harmful to the eyes.

    Children need more sleep every day for the development of the body to develop and function properly. After this, it decreases with ageing. It is sufficient for a healthy person to sleep at least six to seven hours daily at night. A healthy person should not sleep during the day, but children, old and sick people, and who do night work (Duty), can sleep during the day.

    The person who lives with a regular routine and moderate life, his legs are warm, his stomach is soft and his head is cold. He never has to go to the Vaidya (doctor), which means he is always healthy.

    Some Useful Important Points

    (1) In the morning, after sunrise, chew five leaves of neem and basil (Tulsi) every day and drink some water from above, by this, dangerous diseases like plague and cancer can be avoided.

    (2) Swallowing a pinch of whole rice with water in the morning removes liver problems.

    (3) After the meal (Breakfast-Lunch-Dinner), water should be drunk after at least one hour.

    (4) Must urinate after meals, go even if there is no desire, it will become habitual later.

    (5) Use of empty stomach tea or coffee in the morning causes loss of vital-power (vitality).

    (6) Drinking milk after eating 2 spoons of powdered almonds, fennel and sugar candy at night, increases the eye light.

    (7) Rubbing mustard oil on both toes before bathing daily does not weaken the eyesight till old age.

    (8) Before meals, these five senses (Hands, Feet, Mouth, Nasal and Ear) should be washed with water.

    (9)  Boil 15-20 bloom Raisins (Munakka / Dry grapes) in milk every night, eat them and drink milk. This is a wonderful use to relieve constipation.

    (10) Eating a banana in the morning is worth it like copper, in the afternoon it is like silver and in the evening it is like gold. who do not do hard-work should not eat bananas in large quantities. Do not eat bananas on an empty stomach in the morning.

  • EATING

    शुद्ध आहार (संयमित भोजन)

    मनुष्य की जो स्वाभाविक प्रवृति, स्थितिभाव बनता है, उसके बनने में कई कारण होते है।  उनमें आहार एक मुख्य कारण है।  कहावत है कि जैसा खाये अन्न, वैसा होय मन’। अतः आहार जितना सात्विक होता है, मनुष्य की प्रवृति उतनी ही सात्विक बनती है।

    अनुभव करने पर आप पाएंगे कि तामसिक पदार्थ (मांस – मदिरा) आदि का सेवन करने से पेट में जलन, रोग, निद्रा, आलस्य, क्रोध आदि बढ़ जाता है। जिससे मनुष्य की प्रवृति क्रूर, हिंसक, कठोर हृदय वाली हो जाती है।

    अगर आहार सात्विक होगा तो अन्तः करण में शांति, शरीर में हल्कापन, ताजगी व बुद्धि निर्मल होगी। जिससे मनुष्य की प्रवृति दयालु, संवेदनशील, कोमल मन वाली हो जाती है।

    कहते हैं भोजन के प्रति कौर को ३०-३२ बार चबाकर यानि भोजन को पानी की तरह खाना चाहिये व पानी को घूंट-घूंट कर खाना अर्थात पीना चाहिये। स्वस्थ्य चित्त, प्रसन्नता पूर्वक पाल्थी मारकर “सुखासन” में बैठ पूर्व दिशा की तरफ मुंह कर भोजन करने (eating) से पाचन क्रिया सही रहती है। 

    किसी भी वर्ण, आश्रम व सम्प्रदाय का मनुष्य क्यों न हो, अगर वह परमार्थ के मार्ग में लगेगा, साधना करेगा तो उसकी रूचि स्वभाविक ही सात्विक आहार में होगी, राजम-तामस आहार में नहीं। सात्विक आहार से मन में प्रसन्नता आती है व् शरीर निरोगी रहता है।

     

    युक्ताहारविहारस्य, युक्तचेष्टस्य कर्मसु

    युक्तस्वाप्नावबोधस्य योगो भवति दुःखहा 17

     

    अर्थात उचित आहार-विहार (रहन-सहन) उचित कर्म व्यवहार तथा सही समय पर सोना और प्रातः जल्दी उठना, यह योग दुख दूर करने वाला है। गीताकार ने एक ही श्लोक में समग्र स्वास्थ्य रक्षा का सूत्र एवं जीवन जीने की कला का शिक्षण दिया है।

    3 gunas sattva rajas tamas

     

    शरीर में रोग दो प्रकार से होते हैं। 
    (1) प्रारब्ध से
    (2) कुपथ्य याने गलत खान-पान (wrong eating) से।

    हिन्दू धर्म में पूर्व जन्म की मान्यता है, आप देखेंगे कि एक ही समय दो बालक जन्म लेते हैं, उनमे से एक धनवान के यहां जन्म लेने से उसका लालन-पालन सुख सुविधा से होता है व् दुसरे बालक का जन्म अति निर्धन परिवार में होने से उसका लालन-पालन कष्ट पूर्वक होता है, जबकि दोनो बालकों ने जन्म लेते ही कोई अच्छा-बुरा कर्म नहीं किया है। ये उनके पूर्व कर्मो का ही फल है जो उनका जन्म पूर्व कर्मानुसार अमीर-गरीब परिवार में हुआ।

    (1) पुराने पापों के फल स्वरूप जो शरीर में रोग होता है, वह दवाई आदि के सेवन करने पर भी नहीं मिटता यानी असाध्य रोग बन जाता है, ऐसा रोग दवाइयों से दूर नहीं होता बल्कि अच्छे कर्मों, सेवा-भाव तथा सन्तों के आशीर्वाद से, मंत्रों के प्रबल अनुष्ठान सं व भगवान की कृपा से कटता है।

    (2) कुपथ्य यानी गलत खान-पान से होने वाला रोग सही दवा, परहेज व व्रत-उपवास करने से ठीक होता है।

     

    शरीर निरोग कैसे रहे

    भोजन का ज्ञान होना छोटी घटना नही है, क्योंकि भोजन हमारे जीवन की नींव है, यदि हमें नींव का ज्ञान न हो तो बाकी जीवन कैसे समृद्ध होगा। पौष्टिक भोजन से हमारा शरीर ऊर्जा को विकसित करके शक्ति पैदा करता है, उसी शक्ति से हमारा शरीर बलवान रहता है। 

    ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले पुरुष खेती व् अन्य परिश्रम का काम करते हैं वहीं महिलाएं घर में चक्की चलाना व् घर के अन्य काम जैसे झाड़ू, पोछा लगाना, खाना बनाना व घर छोटे-बड़े काम करती हैं, इसके अलावा उनको गांव का वातावरण यानी शुद्ध हवा, नदियों का निर्मल जल, अन्न आदि मिलते हैं, इन बातों व शाररिक परिश्रम करने से उनको रोग बहुत ही कम मात्रा में होते हैं।

    शहरों में शारीरिक परिश्रम न के बराबर है, हवा-जल व खाने के पदार्थ शुद्ध न होना व मानसिक तनाव अत्यधिक होने से उनका शरीर कम उम्र में ही रोगों का घर बन जाता है। अतः अगर आप चाहतें हैं कि हमारा शरीर तन-मन से निरोग रहे, तो पहले अपना खान-पान शुद्धसंयमित रखें।

    अच्छे स्वास्थ्य व अच्छे पाचन के लिए भोजन के एक घंटा पूर्व या एक घण्टा बाद पानी पीएं, भोजन करने का क्रम- 1. सलाद 2. चपाती 3. चावल 4. मिष्ठान और अंत में फल खाना चाहिए।

    eating in cross legged sitting

    (1) हित भुक् (2) मित भुक् (3) ऋतु भुक् – अर्थात जो हमारे शरीर के हित में हो वही भोजन करना चाहिये, भूख से कम खाना व ऋतु के अनुसार भोजन करना चाहिये, भूख से कम खाना (eating less) व ऋतु के अनुसार भोजन करना स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद है।

    इसके अलावा हमारे शरीर में जो अपचा भोजन रह जाता है, उसे पचाने के लिए सप्ताह में कम से कम एक दिन उपवास या फलाहार कर व्रत करना चाहिए हमारा शरीर निरोगी व अन्तरात्मा शुद्व होती है। इससे ज्ञानशक्ति, विचारशक्ति, बुद्धि, श्रद्धा, मेधा भक्ति तथा संतुलित भोजन से उत्तम स्वास्थ्य एवं दीर्घजीवन की प्राप्ति होती है – यह सर्वदा निर्विवाद है।

    DRINKING

    जल का सेवन (पानी पीना) कैसे करें

    आज के इस दौर में, जहाँ हमारे देशवासी छोटी से छोटी तकलीफ के लिए बडी ही हाईपावर की दवा-गोलियों का इस्तेमाल कर अपने शरीर में जहर घोलते जा रहे हैं, वही हमारे ऋषि-मुनियों ने अपने अनुभव द्वारा सही खान-पान अपनाकर शरीर में जहर घोलते जा रहे हैं, वही हमारे ऋषि-मुनियों ने अपने अनुभव द्वारा सही खान-पान अपनाकर शरीर को स्वस्थ रखने के उपाय बनाएं हैं। आहार शुद्धि के बाद, जल का सेवन कैसे करें ये बताया है।

    विद्वानो की कहावत है कि जैसा पीयेंगे पानी, वैसी होगी वाणी”। पानी साफ, ताजा, गुनगुना या मटके का पीना चाहिए। फ्रिज या बर्फ का ठण्डा पानी नही पीना चाहिये।

    पानी हमेशा बैठकर एवं घूँट-घूँट कर पीना चाहिए, खडे होकर पानी पीने से घुटनों में दर्द (वात रोग) होता है। पानी सीधे (दाहिने) हाथ से प्लास्टिक के बजाय किसी भी धातु के गिलास में पीना चाहिये।

    drinking water

     

    पानी का चिकित्सा के रूप में उपयोग

    प्रातः काल में सूर्योदय से पूर्व उठकर बिना मुंह धोये बिना मंजन-ब्रश किये, प्रतिदिन करीब सवा लीटर (चार गिलास) रात का रखा हुआ पानी पी लें। तदान्तर करीब 45 मिनट तक कुछ भी न खायें-पियें। पानी पीने के बाद मुंह धो सकते हैं। जब तक यह प्रयोग चलता है उन दिनों में नाश्ता व् भोजन करने के 2 घंटे बाद ही पानी पीयें। नियमित प्रातः काल में जल सेवन करने से अनेक बीमारियों में लाभ होता है।

    बीमार एवं नाजुक प्रकृति के लोग एक साथ चार गिलास पानी ना पी सकें तो पहले वह एक दो गिलास से आरम्भ कर बाद में धीरे-धीरे बढाकर चार गिलास पर आ जाएं। इस प्रकार पूरे दिन लगभग 10-12 गिलास पानी अवश्य पीयें।

    वातरोग (Arthritis) व जोड़ो के दर्द से पीड़ित रोगी यह प्रयोग एक सप्ताह तक दिन में तीन बार करें। चार गिलास पानी एक साथ पीने से स्वास्थ पर कोई भी कुप्रभाव नहीं पड़ता है। हां, आरम्भ के दो चार दिनों में पेशाब बार-बार आयेगा, लेकिन बाद में पूर्ववत हो जायेगा।

     

    पानी पीना मना –

    गरम भोजन के बाद, खीरा, तरबूज, ककड़ी, खरबूजा आदि फलों के बाद, दोपहर में सोकर उठने के तुरंत बाद, शारीरिक परिश्रम और यात्रा (सफर) करने के तुरंत बाद, रति-क्रिया (सम्भोग) के तुरन्त बाद जल नही पीना चाहिए।

    वायु और सूर्य-किरण की तरह शुद्ध जल भी जीवन तत्व है। हमारे शरीर का तीन चौथाई भाग जल ही है, जो पाचन, रक्त-संचार और निष्कासन-क्रिया में जरूरी है। जल, शरीर के अंदर की गर्मी को दूर करता है। औषधि की तरह मानव रोग के दूर करने के लिए पानी का उपयोग राम बाण है।

    गंगा जल को पवित्र तीर्थ स्थान से वैसाख या कार्तिक माह में मिट्टी, शीशे, पत्थर या चीनी के बर्तन में भरकर संभालकर रखा जावे तो, गंगा जल के सेवन से कई रोग नष्ट होते हैं तथा मानव में भक्ति व शक्ति उत्पन्न होती है।

    SLEEPING

    सोना (शयन पद्द्ति)

    स्वस्थ रहने के लिए नींद अत्यंत आवश्यक है। गहरीअच्छी नींद के लिए, हो सके तो खुले आकाश के नीचे एवं खुली हवा में सोना चाहिए। खुली हवा में सोने से खुब गहरी नींद आती है। ग्रीष्म ऋतु में वृक्ष के नीचे सोने से गुलाबी और मीठी निद्रा आती है। ऐसी घोर निद्रा से जागने पर स्फूर्ति तथा मन को प्रसन्नता प्राप्त होती है। यदि मौसम ठण्डा हो या ओस अधिक गिर रही हो तो बाहर खुले में नहीं सोना चाहिए।

    सोने का कमरा कीड़े, मच्छर और दुर्गंधयुक्त, तंग, सामान से भरा हुआ नहीं होना चाहिए। उत्तर की ओर सिर करके नही सोना चाहिए। इस ओर सिरहाना करना अपशकुन माना जाता है, इसका प्रत्यक्ष प्रमाण भी यह है कि जब मरते समय रोगी का दम छटपटाता है तब उत्तर की ओर सिर करके जमीन में सुला देते हैं। इससे सहज में ही बिना तकलीफ अन्य दिशाओं की अपेक्षा जल्दी दम निकल जाता है।

    पूर्व और दक्षिण की ओर सिराहना करके सोना अच्छा होता है। कहते है पूर्व की ओर सर कर सोने से विद्या तथा जीवनी शक्ति बढती है। दक्षिण की ओर सिर करके सोने से पाचन शक्ति व आयु की वृद्धि होती है। सोते समय सिरहाने-सिर के नीचे एक तकिया रख लेना चाहिए, किसी-किसी को बहुत से तकियों की जरूरत पड़ती है यह ठीक नहीं।

    वैसे तो साधारण अवस्था में स्वस्थ मनुष्य को तकिया लगाकर सिर ऊँचा करने की आवश्यकता नहीं है। उत्तान (सीधा) सोने वाले को तकिये की आवश्यकता नहीं है, लेकिन दाहिने या बाँये करवट सोने वाले की गरदन टेढी न रहे इसलिए तकिया होना चाहिए। बड़े और ऊँचे तकिये से एक तो सोने में कष्ट होता है, दुसरे गर्दन की नसों को विश्राम न मिलने से उनको नुक्सान पहुँचता है। तीसरे रक्त संचालन में बाधा पहुँचती है।

    sleeping direction in east & south

     

    जिस समय नींद का वेग आवे उसे रोकना नहीं चाहिए। जिसको जितनी नींद सोना आवश्यक है, उसको उतनी नींद न आने से / नींद का अभाव होने से अथवा नींद का वेग रोकने से अंगदर्द, सुस्ती, मस्तिष्क सम्बन्धी रोग, सर दर्द-चक्कर, भारीपन यहाँ तक कि जम्हाई आदि आने लगती हैं। शरीर का रसवातु कम, नेत्रों में उत्तेजना, पाचन शक्ति क्षीण होकर मन्दाग्नि, अजीर्ण, अरुचि आदि पैदा होती है।

    जो लोग समय पर नहीं सोते और रात-रात भर खूब जागते हैं, वे रोगी और निर्बल होकर जीवन यापन करते हैं। गहरी नींद लेना स्वस्थ रहने के लिए बड़ा आवश्यक हैं। रात्रि में हाथ-पांव धोकर सोने से नींद अच्छी आती है सोते हुए टी.वी. देखना, मोबाइल का उपसयोग या पढ़ना आँखों के लिए हानिकारक होता है।

    शरीर के विकास के लिए व मानव को विकसित होने और ठीक से काम करने के लिए बच्चों को प्रतिदिन अधिक नींद की जरूरत होती है। इसके बाद उम्र बढ़ने के साथ-साथ इसमें कमी आती जाती है। स्वस्थ व्यक्ति को रात में कम से कम 6 से 7 घंटे रोज सोना पर्याप्त है। स्वस्थ व्यक्ति को दिन में नहीं सोना चाहिए, परन्तु रात्रि काम (Duty) करने वाले, बच्चे, बूढ़ेबीमार व्यक्ति दिन को सो सकते हैं।

    जो व्यक्ति नियमित दिनचर्यासंयमित जीवन जीता है, उसका पैर गरम, पेट नरम व सिर ठण्डा रहता है। उसे कभी वैद्य (डॉक्टर) के पास जाना नहीं पड़ता अर्थात सदैव स्वस्थ्य रहता है।

     

    कुछ महत्वपूर्ण उपयोगी बातें 

    (1) प्रातः काल सूर्योदय के बाद नीम व् तुलसी के पांच-पांच पत्ते प्रतिदिन चबाकर ऊपर से थोडा पानी पीने से प्लेगकेंसर जैसे खतरनाक रोगों से बचा जा सकता है।

    (2) सुबह में चुटकी भर साबुत चावल पानी के साथ निगलने से लीवर की तकलीफ दूर होती है।

    (3) भोजन (नाश्ता-दोपहर-रात्रि) के उपरांत कम से कम एक घंटे के बाद पानी पीना चाहिये।

    (4) भोजन के उपरांत पेशाब जरूर करना चहिये, इच्छा न होने पर भी जावें बाद में आदत हो जाएगी।

    (5) सुबह खली पेट चाय या कॉफी का प्रयोग करने से जीवन शक्ति की हानि होती है।

    (6) रात्रि में पीसा हुआ बादाम, सौफ और मिश्री 2 चम्मच खाने के बाद, दूध पीने से नेत्र ज्योति बढती है।

    (7) प्रतिदिन स्नान से पूर्व दोनो पैर के अंगूठे में सरसों का तेल मलने से वृद्धावस्था तक नेत्रों की ज्योति कमजोर नहीं होती है।

    (8) भोजन के पूर्व हाथ, पांव, मुख, नासिका एवं कान इन पांच इंद्रियों को जल से धो लेना चाहिये।

    (9) प्रतिदिन रात्रि के समय 15-20 मुनक्के दूध में उबालकर खायें व दूध को पी लें। यह कब्ज को दूर करने का अदभुत प्रयोग है।

    (10) केले को सुबह खाने (Eating) से उसकी कीमन तांबे जैसी, दोपहर को चांदी जैसी व शाम को चाने से सोने जैसी होती है। श्रम न करने वालों को अधिक मात्रा में केला नही खाना चाहिये। केला सुबह खाली पेट नहीं खायें।

 

Reference

Vaid Raj Aacharya (Scientist)

Human Body Research

 

More Curious Science Post

About Newton

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top
Translate »
error: